बैंक का मनमाना चार्जेज न लगाने के लिए !

बैंक का मनमाना चार्जेज न लगाने के लिए ! 

लग-भग सभी बैंको ने अपने बैंक चार्जेज को लगभग 250% से 500% तक बढ़ा दिया है |

बैंको ने नकद ट्रांजेक्टशन पर लिमिट लगा दिया है, पर बाकि नकद रहित ट्रांजेक्टशन को नहीं ख़त्म किया है नहीं कम.
ये उन लोगो के ऊपर न इंसाफी है जो बचत खातों को भुगतान प्राप्ति के लिए इस्तेमाल करते थे|

जैसे नौकरी-पैशा, छोटे, छोटे ढेकेदार, आदि!

ये खातों का प्रयोग उन लोगो से करते है जो नकद में भुकतान नहीं करते, लेकिन इनका व्यवहार नकद में होता है तो इन्हें नकद निकालना पड़ता है |

एक तरफ लोगो को बैंको में खाता खुलवाने के लिए प्रोतसाहित किया गया ताकि लोग अपने अवश्यक्तानुसार पैसे निकाल कर खर्च कर सके, वही तमाम तरह के चार्जेज को बढ़ा दिया गया, और कई अलग अलग चार्ज और लगा दिया जा रहा है|

  1. ये बैंक चार्जेज का बढ़ाना एक तरफ़ा है, अगर बैंक कैश रहित ट्रांजेक्टशन को चार्ज मुक्त करती तो लोगो को ज्यादा भरोसा होता |

  2. हम चाहते है की सभी बैंक अपने न्यूनतम बेलेंस अमाउंट को पहले जितना करे क्योंकि कोई अपने ही पैसे को जमा रखने के लिए चार्ज क्यों दे ?

  3. साथ ही सभी प्रकार के कैश लेस ट्रांजेक्टशन का चार्जेज कम करना चाहिए जिससे लोग ज्यादा से ज्यादा इसका इस्तेमाल करे|

  4. बैंक बेसक महीने की जमा या निकासी की सीमा तय कर दे पर निकासी या जमा की ट्रांजेक्टशन सीमा न हो जिससे सभी अपनी सहूलियत के हिसाब से निकले व जमा कर सके

ये कुछ समाचार के लिंक है जो दर्शाते है की कितना बैंक चार्जेज में बढ़ोती हुई है

अगर SBI बैंक में है आपका खाता तो यह खबर आपके लिए है! क्योंकि अगर नहीं किया ऐसा तो देना होगा फाइन

 एक अप्रैल से इस बैंक के एटीएम का इस्तेमाल पड़ेगा महंगा, जानिए देना होगा कितना शुल्क

Bank charges on withdrawals and deposits increased in HDFC bank Read more 

Revised bank charges: Here’s why and how much you have to pay

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s